ब्रेकिंग न्यूज़

तुलसी में जल अर्पित करते समय बोलें ये मंत्र, होगी समृद्धि की प्राप्ति,

वास्तु में भी तुलसी के कई नियम बताए गए हैं. तुलसी को सही दिशा में रखने पर ही शुभ फलों की प्राप्ति होती है. साथ ही, तुलसी में जल देते समय भी कुछ बातों का खास ख्याल रखना चाहिए. मान्यता है कि तुलसी की नियमित पूजा से मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की कृपा भी प्राप्त होती है. आइए जानते हैं तुलसी में जल देने के कुछ जरूरी नियमों के बारे में.

तुलसी में जल देने के नियम

– शास्त्रों के अनुसार बिना स्नान करें तुलसी को छुना पाप माना जाता है. इसलिए सदैव स्नान के बाद ही तुलसी में जल अर्पित करें.

– मान्यता है कि तुलसी में जल अर्पित करने से पहले कुछ खाना नहीं चाहिए.

– ऐसा भी माना जाता है कि तुलसी में जल अर्पित करते समय बिना सिलाई का एक कपड़ा धारण करें और उसे पहन कर ही जल अर्पित करें.

– मान्यता है कि तुलसी में रविवार के दिन जल अर्पित न करें. इस दिन तुलसी माता विश्राम करती हैं.

– ज्योतिष के अनुसार एकादशी के दिन भी तुलसी में जल अर्पित न करें. मान्यता है कि इस दिन तुलसी माता भगवान विष्णु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं.

– तुलसी में ज्यादा पानी न डालें. साथ ही, मान्यता है कि सूर्योदय के समय तुलसी में जल देना शुभ माना जाता है.

तुलसी का पौधा इस दिशा में लगाना उत्तम

वास्तु जानकारों का मानना है कि तुलसी का पौधा हमेशा पूर्व दिशा में ही लगाना चाहिए. इसके अलावा, उत्तर-पूर्व दिशा में भी तुलसी का पौधा लगाया जा सकता है. मान्यता है कि इस दिशा में तुलसी का पौधा रखने से सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है और पौधा हरा-भरा रहकर शुभ फल देता है. लेकिन भूलकर भी तुलसी के पौधे को दक्षिण दिशा में न रखें.

जल अर्पित करते समय बोलें ये एक मंत्र

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार तुलसी के पौधे को जल अर्पित करते समय ये एक विशेष मंत्र बोला जाए, तो समृद्धि का वरदान 1000 गुना बढ़ जाता है. इतना ही नहीं, इस मंत्र के उच्चारण से व्यक्ति को रोग, शोक, बीमारी-व्याधि आदि से भी छुटकारा मिल जाता है.

Related posts

आज से शुरु होगा एकदंत की भक्ति का दौर,इस गणेश चतुर्थी पुलिस होगी सख्त,

Swati Prakash

जीवन में लाना चाहते है बड़ा बदलाब तो अपने साथ रखे ये चीज़े

Swati Prakash

खाटूश्यामजी में बड़ा हादसा एकादशी के मेले में मची भगदड़ से तीन महिलाओं की मौत

Swati Prakash

Leave a Comment