ब्रेकिंग न्यूज़

यूपी-बिहार और तेलंगाना में ट्रेनें फूंकी, 2 की मौत; सिकंदराबाद में जलती ट्रेन से 44 यात्रियों को बचाया

सेना में भर्ती के लिए बनाई गई अग्निपथ योजना में सरकार द्वारा एज लिमिट बढ़ाने के बाद भी प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। यूपी और बिहार में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेनें फूंक दीं। कई जगह रेलवे ट्रैक और सड़क जाम किया गया। इस बीच रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने रेल संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचाने की अपील की है।

तेलंगाना के सिकंदराबाद में ट्रेन के एक रेल कोच में आग लगा दी गई। रेलवे स्टाफ ने तुरंत ही उस कोच में सवार 40 यात्रियों को निकालकर सबकी जान बचा ली। यात्रियों में बच्चे भी शामिल थे।

फिरोजाबाद में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर 4 बसों में तोड़फोड़ करके जाम लगाया गया। हरियाणा के नारनौल में भी युवाओं ने जाम लगा दिया है। तेलंगाना के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन में भी आगजनी और तोड़फोड़ हुई है। यहां हुए हिंसक प्रदर्शन में एक की मौत हो गई। दूसरी मौत बिहार के लखीसराय जिले में हुई है।

L&T मेट्रो रेल लिमिटेड हैदराबाद ने ट्वीट करके बताया- शहर में कुछ गड़बड़ी के कारण, हैदराबाद मेट्रो रेल की तीनों लाइनों को अगली सूचना तक बंद किया जाता है।

राजस्थान के भरतपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शनकारियों ने पुलिसकर्मी को लहूलुहान कर दिया। आंदोलन के कारण 200 ट्रेनें प्रभावित हुई हैं। पूरे देश में 35 ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं, जबकि 13 को कुछ समय के लिए रद्द किया गया है।

यूपी के बलिया में सुबह पांच बजे से प्रदर्शन शुरू हो गया। यहां कई गाड़ियों के शीशे तोड़े गए। पुलिस ने एक उपद्रवी को हिरासत में लिया है।

सेना प्रमुख बोले- दो दिन में जारी होगा नोटिफिकेशन
अग्निपथ योजना पर मचे बवाल के बीच सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने कहा कि अग्निवीरों की भर्ती प्रक्रिया जल्द शुरू होने वाली है। अगले 2 दिनों के भीतर joinindianarmy.nic.in पर नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा। उसके बाद हमारे सेना भर्ती संगठन पंजीकरण और रैली का विस्तृत कार्यक्रम घोषित करेंगे। वहीं, भारत वायुसेना के प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी ने कहा- वायु सेना के लिए भर्ती प्रक्रिया 24 जून से शुरू होगी।

बिहार: 25 जिलों में उग्र प्रदर्शन, 6 ट्रेनें फूंककर ट्रैक पर आगजनी; डिप्टी CM के घर पर हमला
बिहार में 25 जिलों में जमकर बवाल हो रहा है। समस्तीपुर में 2, लखीसराय में 2, आरा और सुपौल में एक-एक यात्री ट्रेन में प्रदर्शनकारियों ने आग लगा दी। वहीं, बक्सर और नालंदा समेत कई जिलों में रेलवे ट्रैक पर आगजनी की गई है। आरा में सड़क पर आगजनी के बाद जाम लगाया गया है। बेतिया में डिप्टी सीएम रेणु देवी के सरकारी आवास पर पथराव किया गया है।

बिहार के ही दरभंगा में प्रदर्शनकारियों ने रोड जाम किया था। इसमें एक स्कूल बस फंस गई। बच्चों ने प्रदर्शन करने वालों के हाथों में डंडे देखे तो वे रोने लगे। पुलिस ने पहुंचकर बस को निकलवाया।

बलिया में अग्निपथ योजना के विरोध में सुबह पांच बजे से विरोध-प्रदर्शन शुरू हो गया। बलिया वॉशिंगपिट में खड़ी ट्रेन में युवाओं ने आग लगा दी। सैकड़ों युवाओं ने पहले रेलवे स्टेशन पर जमकर हंगामा किया, फिर कई गाड़ियों के शीशे तोड़े। पुलिस ने एक उपद्रवी को हिरासत में लिया है। गुरुवार को UP के 11 जिलों में उग्र प्रदर्शन हुए। आगरा, अलीगढ़ में युवाओं ने बसों में तोड़फोड़ की। बुलंदशहर में युवाओं ने नारेबाजी की। हालात इतने बेकाबू हुए कि पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। मेरठ, देवरिया, सीतापुर के साथ ही उन्नाव के शुक्लागंज में युवाओं ने विरोध किया।

फिरोजाबाद में अग्निपथ को लेकर उपद्रवी युवा सुबह सात बजे से ही सड़कों पर उतर आए। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर 4 बसों में तोड़फोड़ करने के साथ ही जाम लगा दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने उपद्रव मचाने वालों को दौड़ाकर किसी तरह जाम खुलवाया। यूपी के बुलंदशहर, मेरठ, आगरा, मथुरा, वाराणसी, उन्नाव, गोरखपुर, गोंडा, रायबरेली और बलिया जिलों में विरोध प्रदर्शन हुए हैं।

केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना का विरोध इंदौर में भी हो रहा है। यहां रेलवे स्टेशन पर शुक्रवार सुबह 7 बजे सेना भर्ती में पहुंचे युवाओं ने हंगामा कर दिया। सूचना के बाद यहां ड्यूटी पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने हल्का बल प्रयोग किया। यहां मौके पर आसपास के थानों का बल भी लगाया गया है। इसके बाद छात्र इकट्ठा होकर लक्ष्मीबाई नगर स्टेशन पर पहुंच गए। यहां छात्रों ने जाम लगा दिया, जहां पुलिस के वाहन रवाना किए।

छात्रों ने पुणे से इंदौर आने वाली ट्रेन भी रोक दी। इंदौर से उज्जैन जाने वाली मेमू सहित दो ट्रेन को निरस्त किया गया है। युवक सुबह पहुंचे तो पुलिस ने आगे जाने से रोका था। इस दौरान वह हंगामा मचाने लगे। कुछ देर बाद यहां भारी फोर्स तैनात किया गया।

अग्निपथ योजना की आंच उत्तर भारत से होते हुए दक्षिण भारत तक पहुंच गई है। तेलंगाना के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शनकारियों ने जमकर तोड़फोड़ की। युवाओं ने ट्रेन में आग लगा दी और उसकी खिड़कियां तोड़ दीं। सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर मंडल रेल प्रबंधक एके गुप्ता ने कहा- प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन के 4-5 इंजन और 2-3 डिब्बों में आग लगा दी। यात्रियों की सुरक्षा के लिए ट्रेन सेवाएं अस्थायी रूप से रोकी गईं।ट्रेन के एक कोच में आग लगा दिए जाने पर रेलवे स्टाफ ने उस कोच में सवार सभी 40 यात्रियों को सुरक्षित निकालकर दूसरे कोच में शिफ्ट किया और उनकी जान बचाई।

दिल्ली के ITO मेट्रो स्टेशन पर आम आदमी पार्टी के छात्र संगठन छात्र-युवा संघर्ष समिति (CYSS) के नेतृत्व में विरोध-प्रदर्शन किया गया। छात्रों ने कहा- ये महात्मा गांधी के सिद्धांत मानने वालों का देश है। यहां सबको अपनी बात शांतिपूर्ण तरीके से रखने का हक है। अग्निपथ योजना युवाओं के खिलाफ है। लेकिन, इसके विरोध में हिंसक प्रदर्शन करना भी गलत है। प्रदर्शन के कारण ITO मेट्रो स्टेशन के सभी गेट बंद कर दिए गए। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे छात्रों को हिरासत में लिया है।

अग्निपथ योजना के खिलाफ जम्मू में भी नाराजगी देखने को मिली। डिफेंस फोर्स की भर्ती की तैयारी कर रहे युवाओं ने जम्मू के आर्मी रिक्रूटमेंट सेंटर के बाहर ये प्रदर्शन किया। अपने शांतिपूर्ण प्रदर्शन में युवाओं ने संविदा पर दी जाने वाली सेना की नौकरी को गलत बताते हुए स्थायी नौकरी देने की मांग की।

हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में भी युवकों ने प्रदर्शन किया है।

रेल मंत्री की अपील-रेल संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचाएं

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने रेल संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि मेरा सभी से निवेदन है कि रेलवे आपकी और राष्ट्र की संपत्ति है।आप किसी भी तरह से हिंसक प्रदर्शन न करें। रेलवे संपत्ति आपके सेवा के लिए है इसलिए इसे बिल्कुल नुकसान न पहुंचाए।

रक्षामंत्री और थल सेनाध्यक्ष की अपील- भर्ती की तैयारी करें युवा
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने प्रदर्शनकारी छात्रों से बवाल न करने की अपील की है। उन्होंने कहा- दो साल से सेना में भर्ती का अवसर नहीं मिल पाया है। इससे भर्ती प्रक्रिया रुकी हुई है। यही सोचकर सरकार ने अभी अग्निवीरों की भर्ती के लिए उम्र सीमा दो साल बढ़ा दी गई है। युवाओं से अपील है कि वह विरोध न करें, भर्ती की तैयारी करें। थल सेनाध्यक्ष जनरल मनोज पांडे ने भी युवाओं से भारतीय सेना में शामिल होने के लिए अग्निवीर बनने की अपील की है।

सरकार ने बढ़ाई एज लिमिट
केंद्र सरकार ने अग्निपथ योजना के तहत भर्ती के लिए अपर एज लिमिट 21 साल से बढ़ाकर 23 साल करने का ऐलान किया है। हालांकि, यह छूट केवल इसी साल के लिए लागू होगी। रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, पिछले दो साल में कोई भर्ती नहीं होने के कारण यह फैसला लिया गया है। इससे पहले अग्निवीर बनने के लिए पहले निर्धारित आयु सीमा 17.5 साल से 21 साल थी।

देश के कई राज्यों में अग्निपथ योजना को लेकर चल रहे विरोध के बीच गुरुवार को यह फैसला लिया गया। इनमें उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और झारखंड सहित कई राज्यों शामिल हैं।

चार साल के लिए डिफेंस फोर्स में सेवा देंगे नौजवान
केंद्र सरकार ने 14 जून को सेना की तीनों शाखाओं- थलसेना, नौसेना और वायुसेना में युवाओं की बड़ी संख्या में भर्ती के लिए अग्निपथ भर्ती योजना शुरू करने का ऐलान किया। इस स्कीम के तहत नौजवानों को सिर्फ 4 साल के लिए डिफेंस फोर्स में सेवा देनी होगी। सरकार ने यह कदम तनख्वाह और पेंशन का बजट कम करने के लिए उठाया है।

1. ये अग्निपथ स्कीम है क्या?
अग्निपथ स्कीम आर्म्ड फोर्सेज के लिए एक देशव्यापी शॉर्ट-टर्म यूथ रिक्रूटमेंट स्कीम है। इस स्कीम के तहत भर्ती होने वाले युवाओं को अग्निवीर कहा जाएगा। अग्निवीरों की तैनाती रेगिस्तान, पहाड़, जमीन, समुद्र या हवा, समेत विभिन्न जगहों पर होगी।

2. अग्निवीरों की रैंक क्या होगी?
इस नई स्कीम में ऑफिसर रैंक के नीचे के सैनिकों की भर्ती होगी। यानी इनकी रैंक पर्सनेल बिलो ऑफिसर रैंक यानी PBOR के तौर पर होगी। इन सैनिकों की रैंक सेना में अभी होने वाली कमीशंड ऑफिसर और नॉन-कमीशंड ऑफिसर की नियुक्ति से अलग होगी।

3. साल में कितनी बार भर्ती होंगे अग्निवीर?
इस योजना के तहत साल में दो बार रैली के जरिए भर्ती होगी।

4. इस साल कितने सैनिकों की होगी भर्ती?
इस साल 46 हजार अग्निवीरों की भर्ती होगी, लेकिन इस दौरान सेना के तीनों अंगों में इस स्तर की आर्मी भर्ती नहीं होगी।

5. अग्निवीर बनने के लिए कितनी उम्र का होना जरूरी?
अग्निवीर बनने के लिए 17.5 साल से 23 साल के बीच होना जरूरी है।

6. अग्निवीर बनने के लिए कितनी पढ़ाई जरूरी?
अग्निवीर बनने के लिए कम से कम 10वीं पास होना जरूरी है।

Related posts

Corona Cases: फिर से कोरोना का केहर। राजधानी में 1520 नए केस, टेस्टिंग बढ़ाई

Anjali Tiwari

Virat Kohli: अब खतरे में विराट कोहली के शतकों का ये रिकॉर्ड, हाथ धोकर पीछे पड़ा ये PAK क्रिकेटर

Anjali Tiwari

नवोदय विद्यालय में इतने प्रतिशत छात्रों ने छोड़ी परीक्षा, कम होगी कटऑफ?

Anjali Tiwari

Leave a Comment