एकनाथ शिंदे को शिवसेना से निकालने, अब किस ओर करवट लेगी सिसायत ?

महाराष्ट्रः उद्धव ने एकनाथ शिंदे पर लिया एक्शन, पार्टी विरोधी गतिविधि के आरोप में शिवसेना में सभी पदों से हटाया
उद्धव ठाकरे ने एकनाथ शिंदे के खिलाफ एक्शन ले लिया है. उन्होंने एक लेटर भेजकर एकनाथ शिंदे को शिवसेना में सभी पदों से हटा दिया है. वहीं बीजेपी के साथ सरकार बनाने पर एकनाथ शिंदे ने कहा है कि बीजेपी के साथ हमारा नैचुरल अलायंस है. हमने भी वही रास्ता अपनाया है. हमने कोई गलत रास्ता नहीं अपनाया.

एकनाथ शिंदे बने महाराष्ट्र के नए सीएम
शिवसेना से बगावत कर मिलाया बीजेपी से हाथ

महाराष्ट्र में लंबे समय से चले आ रहे सियासी घमासान का भले ही पटाक्षेप हो गया हो, लेकिन अभी उबाल थमा नहीं है. एकनाथ शिंदे ने भले ही सूबे के सीएम पद की कमान संभाल ली हो, लेकिन उद्धव ठाकरे ने उनके खिलाफ बड़ा एक्शन लिया है. दरअसल, उद्धव ठाकरे ने एकनाथ शिंदे को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने पर शिवसेना में सभी पदों से हटा दिया है.

उद्धव ठाकरे ने एकनाथ शिंदे के नाम से एक लेटर जारी करते हुए लिखा कि हाल ही में यह देखा गया है कि आप पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त पाए गए हैं. इसके साथ ही लेटर में कहा गया कि आपने शिवसेना की सदस्यता छोड़ दी है. इसलिए आपके खिलाफ ये कार्रवाई की जा रही है.

उद्धव ठाकर ने कहा कि शिवसेना का पक्ष प्रमुख होने पर मैं अपने इस अधिकार का इस्तेमाल करते हुए एकनाथ शिंदे को पार्टी के सभी पदों से मुक्त करता हूं.
दरअसल, एकनाथ शिंदे ने शिवसेना के बागी विधायकों केो साथ लेकर उद्धव ठाकरे सरकार के खिलाफ ताल ठोक दी थी. करीब 8 दिन चले घटनाक्रम के बाद उद्धव ठाकरे को इस्तीफा देना पड़ा था, वहीं एकनाथ शिंदे ने बीजेपी का समर्थन लेकर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है.

ठाकरे ने कई अपील कीं पर काम एक न आई

हालांकि सियासी संकट के बीच उद्धव ठाकरे ने बागियों को मनाने के कई प्रयास किए थे. उन्होंने एक भावुक संदेश जारी करते हुए कहा था कि बातचीत के जरिए समाधान निकाला जा सकता है. विधायकों को सिर्फ उनसे बात करने की जरूरत है. परिवार के मुखिया के नाते मुझे आप लोगों की चिंता है. आप लोग दिल से अभी भी शिवसेना के साथ हैं. लेकिन उद्धव की ये भावुक अपील भी काम नहीं आई. मसलन, एकनाथ शिंदे ने बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली है.
एकनाथ शिंदे ने कहा कि अब हम लोग हमारी विचारधारा, बालासाहेब का हिंदुत्व और क्षेत्र के विकास के मुद्दे पर काम करने के लिए आगे बढ़ रहे हैं. बीजेपी के साथ सरकार बनाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि पहले शिवसेना और बीजेपी के साथ गठबंधन होता था. बीजेपी के साथ हमारा नैचुरल अलायंस है. हमने भी वही रास्ता अपनाया है. हमने कोई गलत रास्ता नहीं अपनाया.

शिवसेना पर भी दोनों गुटों का दावा

उद्धव ने एकनाथ शिंदे के खिलाफ कार्रवाई की है. लेकिन शिंदे गुट का अपना दावा है. एकनाथ शिंदे खेमा खुद को सच्चा शिवसैनिक और बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व का अनुयायी कहता रहा है. इतना ही नहीं, शिंदे ने सीएम पद की शपथ लेने के बाद अपनी ट्विटर की डीपी भी बदल ली थी. उन्होंने बाला साहेब के पैरों के पास बैठे हुए फोटो लगाई थी.

Related posts

22 जुलाई 1947: संविधान सभा, जवाहरलाल नेहरू और राष्‍ट्रध्‍वज… 4 तस्‍वीरों में तिरंगे की पूरी कहानी

Anjali Tiwari

100वें जन्मदिन पर मां के पैर धोकर पीएम मोदी ने लिया आशीर्वाद, हीराबा के नाम पर होगी सड़क

Swati Prakash

अग्निपथ को मिली मंजूरी, गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान अग्निवीर सैनिक को मिलेंगे प्राथमिकता

Swati Prakash

Leave a Comment