ब्रेकिंग न्यूज़

नवरात्रि में रोज करें दुर्गा चालीसा का पाठ, मां भगवती की कृपा से पूरे होंगे सब काज

दुर्गा चालीसा: शास्त्रों के अनुसार मां दुर्गा की उत्पत्ति इस संसार में धर्म की रक्षा करने और संसार से अंधकार मिटाने के लिए हुई थी। वहीं हिन्दू धर्म में मां दुर्गा की आराधना का पर्व नवरात्रि बहुत शुभ माना गया है। नौ दिनों तक मां भगवती के नौ स्वरूपों की पूजा से जीवन के सभी कष्ट दूर होते हैं। इसके साथ मान्यता है कि नवरात्रि में दुर्गा चालीसा का पाठ करने से मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होकर अपने भक्तों के सभी शत्रुओं का नाश करती हैं और हर इच्छा पूरी करती हैं। इसलिए मां दुर्गा की स्तुति के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ करना बहुत लाभदायी माना जाता है। तो आइए जानते हैं दुर्गा चालीसा…

दुर्गा चालीसा

नमो नमो दुर्गे सुख करनी । नमो नमो दुर्गे दुःख हरनी ॥

निरंकार है ज्योति तुम्हारी । तिहूँ लोक फैली उजियारी ॥

शशि ललाट मुख महाविशाला । नेत्र लाल भृकुटि विकराला ॥

रूप मातु को अधिक सुहावे । दरश करत जन अति सुख पावे ॥

तुम संसार शक्ति लै कीना । पालन हेतु अन्न धन दीना ॥

अन्नपूर्णा हुई जग पाला । तुम ही आदि सुन्दरी बाला ॥

प्रलयकाल सब नाशन हारी । तुम गौरी शिवशंकर प्यारी ॥

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें । ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें ॥ ८

रूप सरस्वती को तुम धारा । दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा ॥

धरयो रूप नरसिंह को अम्बा । परगट भई फाड़कर खम्बा ॥

रक्षा करि प्रह्लाद बचायो । हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो ॥

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं । श्री नारायण अंग समाहीं ॥

क्षीरसिन्धु में करत विलासा । दयासिन्धु दीजै मन आसा ॥

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी । महिमा अमित न जात बखानी ॥

मातंगी अरु धूमावति माता । भुवनेश्वरी बगला सुख दाता ॥

श्री भैरव तारा जग तारिणी । छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी ॥ १६

मोको मातु कष्ट अति घेरो । तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो ॥

आशा तृष्णा निपट सतावें ।मोह मदादिक सब बिनशावें ॥ ३६

शत्रु नाश कीजै महारानी । सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी ॥

करो कृपा हे मातु दयाला । ऋद्धिसिद्धि दै करहु निहाला ॥

जब लगि जिऊँ दया फल पाऊँ । तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊँ ॥

श्री दुर्गा चालीसा जो कोई गावै । सब सुख भोग परमपद पावै ॥

॥दोहा॥
शरणागत रक्षा करे, भक्त रहे नि:शंक ।
मैं आया तेरी शरण में, मातु लिजिये अंक ॥
॥ इति श्री दुर्गा चालीसा ॥

Related posts

संकष्टी चतुर्थी की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त,

Swati Prakash

हादसे के वक्त मंदिर में ही थे अफसर

Anjali Tiwari

Leave a Comment