RBI ने क्रेडिट कार्ड को UPI पेमेंट से लिंक करने की अनुमति दी, इसका ग्राहकों पर होगा ये असर

नई व्यवस्था से ग्राहकों को यूपीआई प्लेटफॉर्म के माध्यम से भुगतान करने में अधिक अवसर और सुविधा मिलने की उम्मीद है।

यदि आप नियमित रूप से यूपीआई पेमेंट करते हैं या क्रेडिट कार्ड धारक हैं तो यह खबर आपके काम की है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बुधवार को क्रेडिट कार्ड को UPI भुगतान से जोड़ने का प्रस्ताव दिया। यह बात गवर्नर शक्तिकांत दास ने कही है। रेपो रेट में बढ़ोतरी की घोषणा करते हुए आरबीआई गवर्नर दास ने कहा कि रुपे क्रेडिट कार्ड यूपीआई प्लेटफॉर्म से जुड़े होंगे। यह यूजर्स को अतिरिक्त सुविधा प्रदान करेगा और डिजिटल भुगतान के दायरे को बढ़ाएगा। यूपीआई भुगतान पर बोलते हुए, आरबीआई गवर्नर दास ने कहा, “यूपीआई भारत में 26 करोड़ से अधिक यूनिक यूजर्स और पांच करोड़ व्यापारियों के साथ भुगतान का सबसे कारगर तरीका बन गया है। हाल के वर्षों में UPI की प्रगति अद्वितीय रही है। कई अन्य देश भी अपने देशों में इसी तरह के तरीके अपनाने में हमारे साथ लगे हुए हैं। दास ने कहा कि प्रीपेड भुगतान उपकरणों (पीपीआई) की इंटरऑपरेबिलिटी ने लेनदेन करने के लिए यूपीआई भुगतान प्रणाली तक पीपीआई की पहुंच की सुविधा प्रदान की है। अभी तक सिर्फ डेबिट कार्ड को ही UPI प्लेटफॉर्म से जोड़ा गया है।

रुपे क्रेडिट कार्ड को यूपीआई प्लेटफॉर्म से जोड़ा जाएगा, आरबीआई ने एक घोषणा में कहा। यह यूजर्स को अतिरिक्त सुविधा प्रदान करेगा और डिजिटल भुगतान के दायरे को बढ़ाएगा। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि आरबीआई द्वारा नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) द्वारा जारी रुपे क्रेडिट कार्ड के साथ शुरुआत करने के लिए इस सुविधा के साथ सक्षम किया जाएगा, और सिस्टम के विकास के बाद यह सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। आरबीआई गवर्नर दास ने कहा कि नई व्यवस्था से ग्राहकों को यूपीआई प्लेटफॉर्म के माध्यम से भुगतान करने में अधिक अवसर और सुविधा मिलने की उम्मीद है। दास ने कहा कि मई में 10.40 लाख करोड़ रुपये के 594.63 करोड़ लेनदेन को यूपीआई के माध्यम से क्‍लीयर किया गया था।

Related posts

Tesla CEO Elon Musk ने बड़ा ऐलान किया है. अब वो Twitter डील से पीछे हट गए हैं.

Anjali Tiwari

साइंस का कमाल, मरी हुई मकड़ियों को कर दिया ‘जिंदा’

Swati Prakash

मुर्दे भी अब हो सकेंगे ‘जिंदा’! ‘ममी’ तकनीक, डेडबॉडी के लिए होगा इस्‍तेमाल

Swati Prakash

Leave a Comment