ब्रेकिंग न्यूज़

Punjab: भगवंत मान ने अपने मंत्री को किया बर्खास्त, भ्रष्टाचार के आरोप में एंटी करप्शन ब्रांच ने किया गिरफ्तार

Bhagwant Mann Action: अरविंद केजरीवाल के भ्रष्टाचार विरोधी मॉडल के तहत पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला को भ्रष्टाचार के आरोप लगने पर पद से हटा दिया है, जिसके बाद उन्हें एंटी करप्शन ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया है.

Punjab CM Bhagwant Mann dismissed health minister Vijay Singla: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद अपने ही मंत्री पर बड़ा एक्शन लिया है और पद से बर्खास्त कर दिया है. भगवंत मान ने पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला (Vijay Singla) को भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते अपने मंत्रिमंडल से हटा दिया है. इसके बाद एंटी करप्शन ब्यूरो ने विजय सिंगला को गिरफ्तार कर लिया है.

भ्रष्टाचार विरोधी मॉडल के तहत एक्शन

अरविंद केजरीवाल के भ्रष्टाचार विरोधी मॉडल के तहत पंजाब की भगवंत मान सरकार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ एक्शन लिया है. मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला (Vijay Singla) के खिलाफ भ्रष्टाचार में लिप्त होने के पुख्ता सबूत मिलने के बाद बर्खास्त कर दिया है.

विजय सिंगला पर क्या है आरोप?

भगवंत सरकार के पूर्व मंत्री विजय सिंगला (Vijay Singla) पर अधिकारियों से ठेके पर कमीशन मांगने के आरोप लगे हैं. बताया जा रहा है कि विजय सिंगला अधिकारियों से ठेके पर एक पर्सेंट कमीशन की मांग कर रहे थे. इसके बाद शिकायत मिलने पर मुख्यमंत्री भगवंत मान ने विजय सिंगला को बर्खास्त कर दिया है.

भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा: भगवंत मान

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (Bhagwant Mann) ने कार्रवाई के बाद कहा कि एक पर्सेंट भ्रष्टाचार भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘जनता ने बहुत उम्मीदों से आम आदमी पार्टी की सरकार बनाई है, उस उम्मीद पर खरा उतरना हमारा कर्तव्य है. जब तक अरविंद केजरीवाल जैसे भारत मां के बेटे हैं और भगवंत मान जैसे सिपाही हैं. भ्रष्टाचार के खिलाफ महायुद्ध जारी रहेगा.’ उन्होंने आगे कहा, ‘अरविंद केजरीवाल जी ने वचन लिया था कि भ्रष्टाचार के सिस्टम को जड़ से उखाड़ फेकेंगे, हम सब उनके सिपाही हैं. एक पर्सेंट भ्रष्टाचार की भी कोई जगह नहीं है.

मंत्री को पद से हटाने वाले दूसरे सीएम

देश के इतिहास में दूसरी बार एक मुख्यमंत्री ने सीधे अपने मंत्री पर कार्यवाही की है. इससे पहले साल 2015 में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने अपने एक मंत्री को भ्रष्टाचार के मामले में बर्खास्त किया था.

Related posts

SC Freebies: करते सब हैं, लेकिन सुनेगा कोई नहीं… दुखी सुप्रीम कोर्ट ने नेताओं को सुना दी उनकी पूरी असलियत

Anjali Tiwari

बाराबंकी में पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर भीषण सड़क हादसा, 8 की मौत, दो दर्जन से अधिक घायल

Anjali Tiwari

बैंक धोखाधड़ी मामले में DHFL, उसके पूर्व चेयरमैन, निदेशक के खिलाफ मामला दर्ज

Swati Prakash

Leave a Comment