ब्रेकिंग न्यूज़

नागपंचमी 2022? जानें तारीख, शुभ मुहूर्त और पूजा की सटीक विधि

सावन महीने में सावन सोमवार के अलावा नागपंचमी जैसा महत्‍वपूर्ण पर्व भी मनाया जाता है. नागपंचमी श्रावण मास (सावन महीने) के शुक्‍ल पक्ष की पंचमी को मनाते हैं. इस बार रोचक संयोग है कि सावन महीने के पहले सोमवार पर भी पंचमी तिथि ही है. ऐसे में सावन सोमवार को शिव-पार्वती के साथ-साथ नाग देवता की पूजा करना भी बहुत लाभ देगा. वहीं नागपंचमी इस साल 2 अगस्‍त 2022, मंगलवार को मनाई जाएगी.

काल सर्प दोष से निजात पाने का उत्‍तम मौका 

नागपंचमी के दिन नाग देवता की पूजा करने से नाग देवता और शिव जी दोनों की कृपा मिलती है और जीवन के कई संकट-मुसीबतें दूर होती हैं. ऐसे जातक जिनकी कुंडली काल सर्प दोष, अकाल मृत्‍यु का योग है, ऐसे लोगों को नागपंचमी के दिन नाग पूजा जरूर करना चाहिए. इसके अलावा जिन लोगों की कुंडली में काल सर्प दोष हो उन्‍हें नागपंचमी के दिन इसके निवारण का उपाय जरूर कर लेना चाहिए.

नागपंचमी 2022 पूजा मुहूर्त 

इस साल नागपंचमी के दिन पूजा करने के लिए शुभ मुहूर्त 2 अगस्‍त, मंगलवार को सुबह 06:05 बजे से 08:41 बजे तक रहेगा. वहीं पंचमी तिथि 2 अगस्‍त की सुबह 05:13 बजे से शुरू होकर 3 अगस्‍त की सुबह 05:41 बजे तक रहेगी.

ऐसे करें नागपंचमी पर नाग देवता की पूजा

नागपंचमी पर व्रत भी रखा जाता है और जो जातक काल सर्प दोष निवारण की पूजा करा रहे हों उन्‍हें चतुर्थी से ही व्रत शुरू कर देना चाहिए. इसके लिए चतुर्थी को एक समय भोजन करें और बाकी दिन उपवास रखें. इसी तरह पंचमी को पूरा दिन उपवास रखकर शाम को भोजन करें. नाग देवता की पूजा के लिए चौकी पर नाग देवता का चित्र या मूर्ति स्‍थापित करें. फिर नाग देवता का आह्वान करें. उन्‍हें हल्‍दी, रोली, चावल से तिलक लगाएं. फूल चढ़ाएं. धूप-दीप करें. कच्‍चा दूध, चीनी अर्पित करें. नाग देवता की कथा जरूर पढ़ें. आखिर में नाग देवता की आरती करें.

यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.

Related posts

करियर और कमाई में उन्नति के लिए घर में रखिए इन मूर्तियों को

Swati Prakash

एक पोस्टर पर काफी विवाद हो रहा है, जो हिंदू धर्म में देवी मां काली का है.

Anjali Tiwari

आज सावन की शिवरात्रि

Swati Prakash

Leave a Comment