ब्रेकिंग न्यूज़

Leopard-2 Tank: रूस के खिलाफ इस खतरनाक टैंक को हासिल करना चाहता है यूक्रेन, जानें क्या है इसमें खास

Ukraine Crisis: जर्मनी के विदेश मंत्री ने रविवार को कहा कि अगर पोलैंड अपने Leopard 2  टैंकों को यूक्रेन भेजना चाहता है तो उनकी सरकार रास्ते में नहीं आएगी. जर्मनी का यह रुख कीव के लिए बड़ी राहत है जो रूस के आक्रमण युद्ध में अपने लिए टैंक चाहता है. बता दें यूक्रेनी अधिकारी महीनों से पश्चिमी सहयोगियों से आधुनिक जर्मन निर्मित टैंकों की सप्लाई करने की अपील कर  रहे हैं.

रॉयटर्स के मुताबिक यह पूछे जाने पर कि क्या होगा यदि पोलैंड आगे बढ़े और जर्मन अनुमोदन के बिना अपने Leopard 2  टैंक भेजे, विदेश मंत्री एनालेना बेयरबॉक ने फ्रांस के एलसीआई टीवी पर कहा, ‘फिलहाल सवाल नहीं पूछा गया है, लेकिन अगर हमसे पूछा गया तो हम रास्ते में खड़े नहीं होंगे.’

बेयरबॉक की टिप्पणी रविवार को पेरिस में एक शिखर सम्मेलन में जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ की टिप्पणियों से आगे बढ़ती हुई दिखाई दी, जिसमें कहा गया था कि हथियारों की डिलीवरी पर सभी निर्णय संयुक्त राज्य सहित सहयोगियों के साथ समन्वय में किए जाएंगे.

Leopard 2   को यूक्रेन जाने देने के लिए जर्मनी पर भारी दबाव रहा है. लेकिन स्कोल्ज़ की सोशल डेमोक्रेट पार्टी परंपरागत रूप से सैन्य भागीदारी और अचानक कदमों से सावधान रहती है जो मॉस्को को और आगे बढ़ा सकती है.

जर्मन रक्षा मंत्री बोरिस पिस्टोरियस ने रविवार को कहा कि उन्हें टैंकों पर जल्द ही निर्णय की उम्मीद है, हालांकि उन्होंने सावधानी बरती. पिस्टोरियस ने एआरडी टीवी से कहा कि जर्मनी जल्दबाजी में फैसला नहीं करेगा क्योंकि सरकार के पास जर्मन आबादी की सुरक्षा के लिए घरेलू परिणामों सहित कई कारकों पर विचार करना था.

जेलेंस्की ने की टैंक की मांग
बता दें यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने पूर्व ब्रिटिश प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन के साथ अपनी रविवार की बैठक में टैंकों के लिए लंबे समय से चली आ रही अपनी दलील को दोहराया. जॉनसन कीव के दौरे पर थे.

ज़ेलेंस्की ने अपनी वेबसाइट पर एक बयान के अनुसार कहा, ‘हमें और अधिक हथियारों की आवश्यकता है: टैंक, विमान, लंबी दूरी की मिसाइलें.‘

क्या है Leopard2?

-अमेरिकी M48 पैटन को बदलने के लिए लेपर्ड-2 टैंक 1970 के दशक में पहली बार तैयार किया गया.

-जर्मन कंपनी क्रॉस-मफेई वेगमैन अब तक इस टैंक की 3500 यूनिट बना चुकी है.

-120 मिमी स्मूथबोर तोप से लैस यह टैंक 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से 500 किमी की दूरी तक चल सकता है.

-यह टैंक माइन्स विस्फोट, एंटी टैंक फायर और IED ब्लास्ट से पूरी तरह सुरक्षित रहता है.

-अंतिम रूप से उत्पादित चार मॉडल 2A4 से 2A7 तक सभी वर्तमान में इस्तेमाल किए जा रहे हैं.

रूस ने क्या कहा?
इस बीच क्रेमलिन के प्रवक्ता ने शुक्रवार को कहा कि यूक्रेन को अतिरिक्त टैंकों की आपूर्ति करने वाले पश्चिमी देश संघर्ष की दिशा नहीं बदल सकेंगे और वे यूक्रेनी लोगों की समस्याओं को बढ़ाएंगे.

Related posts

ज़ी न्यूज़ के रिपोर्टर को तालिबान ने क्यों किडनैप किया?

Swati Prakash

Vladimir Putin Health: किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं पुतिन! फूले हुए हाथ और कांपते पैर से उठने लगे सवाल

Anjali Tiwari

Canada: भारतीय मूल के इस सांसद ने पार्लियामेंट में कन्नड़ में दिया भाषण

Anjali Tiwari

Leave a Comment