ब्रेकिंग न्यूज़

Lawrence Bishnoi: गन, ग्लैमर और गैंग्स की जंग…कैसे लॉरेंस बिश्नोई ने बदल दिए अंडरवर्ल्ड के नियम-कायदे

UnderWorld Gangs: अब तक लड़ाई बुकी, केबल ऑपरेटर्स से जमीन, प्रॉपर्टी और वसूली को लेकर होती थी. लेकिन बिश्नोई की एंट्री ने न सिर्फ नियम-कायदे बल्कि खेल ही बदल दिया. विदेश से टारगेट किलिंग के फरमान से लेकर कबड्डी टूर्नामेंट को कंट्रोल करने और यूट्यूब चैनल्स पर पंजाबी सिंगर्स के गाने रिलीज करने तक का काम हो रहा है. अंडरवर्ल्ड के लिए चुनौतियां अब बदल .

Sidhu Moose Wala Murder: पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद एक नाम सबसे ज्यादा सुनाई दे रहा है. लॉरेंस बिश्नोई. लॉरेंस बिश्नोई गैंग दिल्ली के अंडरवर्ल्ड में अंदर तक अपनी जड़ें जमा चुका है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक जांचकर्ताओं का मानना है कि इससे अपराध की दुनिया की दुनिया आने वाले वर्षों में बदल जाएगी. अब तक दिल्ली में गैंग्स के बीच वर्चस्व को लेकर ही खून-खराबा होता रहा है.

जांचकर्ताओं का कहना है कि अब तक लड़ाई बुकी, केबल ऑपरेटर्स से जमीन, प्रॉपर्टी और वसूली को लेकर होती थी. लेकिन बिश्नोई की एंट्री ने न सिर्फ नियम-कायदे बल्कि खेल ही बदल दिया. विदेश से टारगेट किलिंग के फरमान से लेकर कबड्डी टूर्नामेंट को कंट्रोल करने और यूट्यूब चैनल्स पर पंजाबी सिंगर्स के गाने रिलीज करने तक का काम हो रहा है. अंडरवर्ल्ड के लिए चुनौतियां अब बदल रही हैं.

बिश्नोई गैंग ने खेला स्मार्ट गेम

जो लोग बिश्नोई गैंग पर नजर बनाए हुए हैं, वे कहते हैं कि दिल्ली और हरियाणा के अपराध जगत में एंट्री के लिए इन्होंने स्मार्ट गेम खेला. उसने लोकल माफिया से हाथ मिलाया ताकि विस्तार किया जा सके. इसमें दिल्ली का जितेंदर गोगी और हरियाणा में संदीप उर्फ काला जठेड़ी शामिल है. राजस्थान में उसने गैंगस्टर आनंदपाल के गुर्गों को समर्थन दिया.

एक वरिष्ठ पुलिस अफसर ने टीओआई को बताया, ‘उसका मकसद साफ था उसे नॉर्थ इंडिया के अंडरवर्ल्ड पर राज करना था और अपने गृह राज्य पंजाब के अलावा हरियाणा, दिल्ली, यूपी, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड में दबदबा कायम करना था.’

लेकिन लॉरेंस बिश्नोई के प्लान को झटका ना लगा हो ऐसा भी नहीं है. उसके गैंग की पंजाब के बंबीहा-पटियाल गैंग के साथ जानी दुश्मनी है. साल 2016 में बंबीहा गैंग उस वक्त कमजोर पड़ गया, जब दविंदर बंबीहा एक पुलिस एनकाउंटर में मारा गया. लेकिन सूत्रों के मुताबिक वह पाकिस्तान से ऑपरेट करने वाले रिंडा संधु के समर्थन से फिर खड़ा हो गया. इस ग्रुप को पंजाब के मोगा का रहने वाला सुखा सिंह फंडिंग देता है. इसकी काट के लिए बिश्नोई का कनाडा में करीबी सहयोगी गोल्डी बरार है. इसके बाद बंबीहा ग्रुप को गैंगस्टर गौरव उर्फ लकी पटियाल का समर्थन मिला, जो अर्मेनिया से ऑपरेट करता है.

Related posts

Indian Railways: सर्विस चार्ज की मार रेलवे में भी, 20 की चाय इस वजह से हो गई 70 रुपए की, 

Anjali Tiwari

हेमंत सोरेन को कुर्सी ही नहीं, सरकार की भी चिंता, गेस्ट हाउस में ‘सुरक्षित’ किए विधायक

Anjali Tiwari

मकान का किराया 10 हजार रुपए माह तो नहीं लगेगा स्टांप शुल्क

Swati Prakash

Leave a Comment