ब्रेकिंग न्यूज़

Jagannath Rath Yatra 2022: काशी में दो साल बाद रथ पर सवार होकर निकले भगवान जगन्नाथ, दर्शन को उमड़े श्रद्धालु

जगत के पालनहार भगवान जगन्नाथ के रथ पर सवार होते ही शुक्रवार अलसुबह से तीन दिवसीय रथयात्रा मेला शुरू हो गया।  बीते दो साल कोरोना महामारी के कारण बनारस में रथयात्रा मेला नहीं लगा था।

पीताम्बर वेष में भगवान जगन्नाथ

भगवान शिव की नगरी काशी में जगत के पालनहार भगवान जगन्नाथ के रथ पर सवार होते ही शुक्रवार अलसुबह से तीन दिवसीय रथयात्रा मेला शुरू हो गया। पीताम्बर वेष में भगवान जगन्नाथ, बहन सुभद्रा और भइया बलभद्र ने भक्तों को अपने दर्शन दिए। नाथों के नाथ के दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ी। भक्तों ने भगवान जगन्नाथ को तुलसीदल की माला, सुगंधित बेला के पुष्पों की लड़ी, फल और श्रद्धाभाव अर्पित कर आशीष लिया।  इसी के साथ काशी में लक्खा मेलों की शुरुआत हो गई।

कोरोना संक्रमण के कारण काशी में दो साल तक रथयात्रा मेला नहीं लगा था।

इस बार रथयात्रा मेले को लेकर बेसब्री से इंतजार था। मेले की शुरुआत शुक्रवार भोर में मंगला आरती से हुई। रथयात्रा स्थित बेनीराम बाग में भगवान जगन्नाथ, बहन सुभद्रा और बलभद्र जी के विग्रहों को पीतांबर वस्त्र धारण कराने के बाद पीले फूलों से श्रृंगार किया गया।

इसके बाद भगवान को 14 पहियों वाले सुसज्जित रथ पर आरुढ़ किया गया। जैसे ही पट खुला पीतांबर धारी प्रभु के दर्शन के लिए भक्तों का रेला उमड़ पड़ा। दर्शन-पूजन के लिए भोर से ही दर्शनार्थियों की कतार लग गई थी। सुरक्षा के लिहाज से पुलिसकर्मी भी मेला क्षेत्र में लगातार गश्त कर रहे हैं।

आज से चार दिन तक नो व्हीकल जोन रहेगा रथयात्रा चौराहा

रथयात्रा मेले को लेकर ट्रैफिक पुलिस ने रथयात्रा चौराहा को शुक्रवार से दोपहर 12 बजे के बाद नो व्हीकल जोन घोषित किया है। दोपहर 12 बजे से भोर में चार बजे के बीच वाहन लेकर रथयात्रा चौराहा की ओर न जाए, यह डायवर्जन चार जुलाई तक लागू है। हालांकि, एंबुलेंस, शव और दिव्यांग वाहन सभी तरह के प्रतिबंध से मुक्त रहेंगे।

एडीसीपी ट्रैफिक डीके पुरी के अनुसार, बीएचयू भेलूपुर से रथयात्रा जाने वाले वाहनों को कमच्छा से बैजनत्था की तरफ मोड़ते हुए आशीर्वाद क्लीनिक आकाशवाणी की तरफ से निकाला जाएगा। लक्सा से रथयात्रा की तरफ जाने वाले समस्त वाहनों को गुरुबाग तिराहे से नीमामाई तिराहे की तरफ मोड़ा जाएगा। सिगरा से रथयात्रा जाने वाले समस्त वाहनों को सिगरा चौराहे से महमूरगंज की तरफ निकाला जाएगा। महमूरगंज चौराहे से रथयात्रा जाने वाले सभी वाहन आकाशवाणी तिराहा से सिगरा की तरफ जाएंगे।

एडीसीपी ट्रैफिक ने बताया कि नो इंट्री समाप्त होने पर जिन भारी वाहनों (ट्रक आदि) को मंडुवाडीह तक आना है, वह मोहनसराय, रोहनिया, चांदपुर, मुढ़ैला होते हुए मंडुवाडीह तक आ सकते हैं। नो-इंट्री समाप्त होने पर जिन भारी वाहनों (ट्रक आदि) को सिगरा तक आना है, वह मोहनसराय, रोहनिया, चांदपुर, लहरतारा, धर्मशाला, इंग्लिशिया लाइन, मलदहिया होते हुए सिगरा तक आ सकते हैं। नो-इंट्री समाप्त होने पर जिन भारी वाहनों (ट्रक आदि) को सिगरा से हरहुआ होकर या बाबतपुर जाना होगा, वह वाहन सिगरा, मलदहिया, चौकाघाट, ताड़ीखाना पुलिस लाइन चौराहा, भोजूबीर, गिलट बाजार, तरना, हरहुआ होते हुए अपने गंतव्य को जा सकेंगे। 

Related posts

पुलिस और गैंगस्टर्स के बीच एनकाउंटर खत्म, मारे गए मूसेवाला की हत्या से जुड़े दोनों आरोपी

Swati Prakash

Chhattisgarh: ITBP के जवानों ने स्कूली छात्रों के लिए शुरू की कोचिंग, स्टडी मैटेरियल का भी कर रहे इंतजाम

Anjali Tiwari

नर्मदा में गिरी बस, 13 के शव 2 सुरक्षित निकाले, सीएम शिवराज ने किया ट्वीट

Swati Prakash

Leave a Comment