बिना कारण तुलसी के पत्ते तोड़ना मुसीबतों को देता है न्यौता, जान लें तुलसी के पत्ते तोड़ने के नियम

हिंदू धर्म में तुलसी को मां लक्ष्मी का रूप माना जाता है. नियमित रूप से तुलसी की पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि और धन की प्राप्ति होती है. शास्त्रों में तुलसी के पौधे को लेकर कुछ नियम बताए गए हैं. तुलसी को तोड़ने, जल अर्पित क रने और पूजा आदि करते समय किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है, ग्रंथों में इसका उल्लेख मिलता है. शास्त्रों के अनुसार शिव परिवार की पूजा को छोड़कर लगभग सभी देवी-देवताओं की पूजा में तुलसी का प्रयोग किया जाता है.

तुलसी पत्र तोड़ने के नियम

– मान्यता है कि तुलसी के पौधे में मां लक्ष्मी का वास होता है, इसलिए तुलसी के पत्ते तोड़ते समय हाथ जोड़कर उनसे अनुमति लेना जरूरी है. इसके बाद ही तुलसी पत्र तोड़ें.

– तुलसी के पत्ते चाकू, कैंची या नाकून आदि से नहीं तोड़ने चाहिए.

– तुलसी के पत्ते बिना कारण न तोड़ें. मान्यता है कि अगर कोई ऐसा करता है को घर में दुर्भाग्य का सामना करना पड़ता है.

तुलसी को जल देने के नियम

– तुलसी में जल अर्पित करने से पहले साधक इस बात का ध्यान रखें कि किसी भी तरह का अन्न जल ग्रहण न किया हो.

– मान्यता है कि तुलसी में सूर्योदय के समय जल अर्पित करना सर्वोत्तम माना जाता है. इस बात का भी खास ख्याल रखें कि तुलसी के पौधे में जरूरत से ज्यादा जल अर्पित नहीं करना चाहिए.

– शास्त्रों में तुलसी में जल अर्पित करते समय बिना सिला कपड़ा पहन कर जल अर्पित करने की सलाह दी गई है.

– रविवार और एकादशी के दिन भूलकर भी तुलसी के पौधे में जल अर्पित न करें. मान्यता है कि एकादशी के दिन तुलसी माता भगवान विष्णु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं.

Related posts

फेंगशुई ड्रैगन घर में रखने से मिलेगी नौकरी में उन्नति और बढ़ेगी मान-प्रतिष्ठा

Swati Prakash

सावन के आखरी सोमवारी व्रत के दौरान करें इन चीजों का सेवन

Swati Prakash

सावन के शनिवार धनु, मकर और कुंभ वाले करें ये 3 काम, शनि साढ़े साती का नहीं पड़ेगा बुरा असर

Swati Prakash

Leave a Comment