ब्रेकिंग न्यूज़

दिल्ली सरकार ने प्रदूषण की रोकथाम के लिए ग्रीन वार रूम किया लॉन्च, 12 सदस्यों की टीम करेगी मॉनिटरिंग

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने दिल्ली सचिवालय में सोमवार को प्रदूषण के खिलाफ विंटर एक्शन प्लान के बेहतर क्रियान्वयन के लिए ग्रीन वार रूम लॉन्च कर दिया है। उन्होंने कहा कि ग्रीन वार रूम में मॉनिटरिंग के लिए 12 सदस्यीय टीम कार्य करेगी। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के कारण प्रदूषण में भारी कमी दर्ज की गई है। पिछले 10 सालों में पीएम 10 में 40 फीसदी और पीएम 2.5 में 31 फीसदी की कमी आई है। दिल्ली में 6 अक्टूबर से एंटी डस्ट अभियान शुरू किया जाएगा।

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने ग्रीन वार रूम लॉन्च करते हुए कहा कि ग्रीन वार रूम की 12 सदस्यीय टीम का नेतृत्व एनवायरमेंट इंजीनियर बीएमएस रेड्डी करेंगे। साथ ही साथ ग्रीन वार रूम में प्रदूषण से संबंधित कारकों को बेहतर रूप में विश्लेषण करने के लिए वैज्ञानिक डॉ. नंदिता मित्रा को जिम्मेदारी सौंपी गई है। यह टीम प्राथमिक प्रदूषकों के स्तर, प्रदूषण पर अंकुश लगाने के लिए उपायों और ग्रीन दिल्ली ऐप के माध्यम से प्राप्त शिकायतों की स्थिति की निगरानी करेगी।
पराली जलाने का डाटा का होगा विश्लेषण 

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली में प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए कई एजेंसियां काम कर रही हैं। उनके समन्वय के लिए ग्रीन वार रूम स्थापित किया है। ग्रीन वार रूम में पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने एवं खुले में कचरा जलाने से संबंधित सेटेलाइट डाटा का भी विश्लेषण किया जाएगा। इस वार रूम के मेंबर, ग्रीन दिल्ली ऐप पर जितनी शिकायतें आएंगी, उससे संबंधित 30 विभागों तक पहुंचाने और उसे मॉनिटर करने का काम करेंगे। उन्होंने बताया कि ग्रीन दिल्ली ऐप पर अभी तक 54,156 शिकायतें आई हैं। जिसमें से 90 फीसदी शिकायतों का निपटारा किया जा चुका है। ग्रीन दिल्ली ऐप पर एमसीडी की 32,573 शिकायतें, पीडब्ल्यूडी विभाग की 9,118 और डीडीए की 3,333 शिकायतें आई हैं।

मोबाइल फोन पर डाउनलोड करें ग्रीन दिल्ली ऐप 

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा दिल्ली के लोगों से अपील है कि ग्रीन दिल्ली ऐप को अपने मोबाईल फोन पर डाउनलोड कर लें। दिल्ली में कहीं भी निर्माण कार्य चल रहा है और नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है तो उसकी शिकायत ग्रीन दिल्ली ऐप पर करें। अगर आप आंख कान बनेंगे तो हम लोग आपस में मिलकर प्रदूषण को खत्म कर सकते हैं। पर्यावरण मंत्री ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 30 सितंबर को विंटर एक्शन प्लान की घोषणा की थी। उस एक्शन प्लान के तहत ग्रेप सिस्टम 1 अक्टूबर से दिल्ली के अंदर लागू हो चुका है। विंटर एक्शन प्लान के तहत विभागों ने अपना काम शुरू कर दिया है। दिल्ली सरकार द्वारा उठाए गए कदम के कारण प्रदूषण में भारी कमी दर्ज की गई है। 2012 से 2021 तक पीएम-10 में 40 प्रतिशत और पीएम-2.5 में 31 प्रतिशत की कमी आई है।

दिल्ली के प्रदूषण में राजधानी के सोर्सेज का योगदान है 31 फीसद 

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने दावा करते हुए कहा कि दिल्ली के प्रदूषण में दिल्ली के सोर्सेज का योगदान मात्र 31 फीसदी है। जबकि एनसीआर के शहरों का योगदान सर्वाधिक है। इसको देखते हुए हम आज से, वार रूम से प्रदूषण के विरूद्ध इस अभियान की शुरुआत कर रहे हैं। लोग पूछते हैं कि दिल्ली सरकार प्रदूषण के विरूद्ध इतने सारे कदम उठा रही है उसका कोई फायदा हो भी रहा है या नहीं हो रहा है। डीपीसीसी का चार्ट बताता है कि 2012 और 2021 में पीएम 10 की क्या स्थिति है। जब से हमारी सरकार बनी और हमने प्रदूषण नियंत्रण के उपाय लागू करने शुरू किए। उसका परिणाम यह हुआ कि पिछले 10 सालों में पीएम-10 में 40 प्रतिशत की तथा पीएम 2.5 में 31 फीसदी की कमी आई है और हमारी यह उपलब्धि दिल्लीवासियों के सहयोग के बिना संभव नहीं थी। यह भी गौर करने वाली बात है कि 2012 से 2021 तक दिल्ली की आबादी में लगभग 70 से 80 लाख की वृद्धि होने के बावजूद दिल्ली में ग्रीन बेल्ट में वृद्धि होती है। पीएम-10 में 40 प्रतिशत की कमी आती है और पीएम 2.5 में 31 फीसदी की कमी होती है। पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि 6 तारीख से एंटी डस्ट कैम्पेन दिल्ली में शुरू होगा। ऐसी निर्माण साइट जो धूल प्रदूषण से संबंधित नियमों का पालन नहीं करेंगी, उसपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Related posts

कर्तव्य पथ’ हुआ राजपथ का नाम,

Swati Prakash

कितने ज्ञानी हैं आप? तस्वीर में 10 महापुरुषों को खोजकर बताइए

Anjali Tiwari

गैस रिसाव से आक्सीजन फैक्ट्री में हड़कंप, 5 की तबीयत बिगड़ी; प्लांट की तरफ के रास्ते बंद

Anjali Tiwari

Leave a Comment