ब्रेकिंग न्यूज़

मंदिर की जगह बनाया कब्रिस्तान, तत्कालीन तहसीलदार और सपा नेता समेत 23 के खिलाफ केस

उत्तर प्रदेश के मथुरा के थाना कोसी कला थाना क्षेत्र के अंतर्गत मंदिर की जमीन पर दस्तावेजों में हेराफेरी कर कब्रिस्तान बनाने का बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया है। इस मामले में 23 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। श्री बिहारी जी महाराज सेवा ट्रस्ट की भूमि के दस्तावेजों में हेराफेरी करते हुए मंदिर की भूमि मजार बनाने के मामले में तत्कालीन तहसीलदार, लेखपाल, राजस्व निरीक्षक और ग्राम प्रधान समेत सपा नेता को आरोपी बनाया गया है। पुलिस ने केस दर्ज करते हुए मामले में गहन जांच शुरू कर दी है।
दरअसल, थाना कोसीकला क्षेत्र के अंतर्गत श्री बिहारी जी महाराज सेवा ट्रस्ट की भूमि पर स्थित मंदिर पर कब्जा कर जमीन के कागजातों में हेरा-फेरी करते हुए कब्रिस्तान भूमि में दिखा दिया गया है। पूर्व में इस मामले को लेकर धर्माचार्य और साधु संत भी एकत्रित हुए और इसका पुरजोर विरोध भी किया था। लगातार साधु संत और धर्म आचार्यों के विरोध के बाद अब पुलिस हरकत में आई है और 23 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। गांव शाहपुर में 18 वर्ष पूर्व तत्कालीन ग्राम प्रधान और सपा नेता ने लेखपाल के साथ मिलकर श्री बिहारी जी महाराज सेवा ट्रस्ट की भूमि पर स्थित मंदिर पर कब्जा कर लिया था और उस भूमि को हड़पने के लिए कागजों में छेड़छाड़ करते हुए जमीन पर कब्रिस्तान दिखा दिया गया था।
बिहारीजी का सिंहासन तोड़कर बना दी पक्की मजार

आरोप है कि सेवा पूजा के अभाव में खंडहर हुए श्री बिहारी जी मंदिर परिसर में 15 मार्च 2020 की रात जाहिरा, मुस्ताक, जमील, शाहिद, ईदू, नासिर, हनीफ, शहीद, अशफाक, रिजवान, सलीम, राजू, जमाल, अख्तार, सुलेमान, अजीज, शकील, इंसाद सहित 30 लोगों ने मंदिर के सिंहासन को तोड़कर उसे मजार में तब्दील कर दिया था। इसके साथ ही पूर्व में बने कुएं को भी तहस-नहस कर दिया गया था। इसका विरोध ग्रामीणों ने किया तो आरोपियों ने कब्रिस्तान की जमीन बता दिया। प्रशासनिक अफसरों को दो सितंबर 2004 में बदले गए खसरा संख्या के संबंधित कागजात दिखाकर गुमराह कर दिया गया। 15 मार्च 2020 को इन लोगों ने बिहारीजी के क्षतिग्रस्त सिंहासन पर मजार का पक्का निर्माण कर नमाज पढ़ना शुरू कर दी

एसपी ग्रामीण बोले- जल्द होगी आरोपियों की गिरफ्तारी

रामअवतार सिंह की तहरीर पर मामले की जांच शुरू की तो स्थिति स्पष्ट हो गई। पुलिस ने अब रामअवतार की तहरीर पर शमशाद, भोला, उमर शेर, शमशेर, राजू, अशफाक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। एसपी ग्रामीण ने बताया कि तत्कालीन सपा अध्यक्ष भोला खान पठान, रामवीर प्रधान, लेखपाल, राजस्व निरीक्षक, तहसीलदार समेत 23 लोगों को नामजदों किया गया है। आरोपियों को जल्द पकड़ा जाएगा।

Related posts

मीडिया राइट्स की नीलामी कर BCCI ने कमाए कई हज़ार करोड़,

Swati Prakash

पुलिस पर हमला कर गैंगस्टर को छुड़ा ले गए बदमाश

Swati Prakash

OnePlus Nord 2T 5G भारत में इस दिन होगा लॉन्च,

Swati Prakash

Leave a Comment