ब्रेकिंग न्यूज़

Allahabad High Court: जातीय रैलियों पर क्यों न हमेशा के लिए लगा दें बैन? इलाहाबाद हाईकोर्ट ने चार पार्टियों से मांगा जवाब

Allahabad High Court Orders

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जाति आधारित रैलियों को लेकर सख्त रुख अपनाया है. हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने उत्तर प्रदेश के चार प्रमुख राजनीतिक दलों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. कोर्ट ने पूछा है कि राज्य में जाति आधारित रैलियों पर हमेशा के लिए पूर्ण प्रतिबंध क्यों नहीं लगाया जाना चाहिए और उल्लंघन के मामले में चुनाव आयोग को उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं करनी चाहिए. नौ साल पहले पारित अपने अंतरिम आदेश पर कोई कार्रवाई नहीं होने के बाद अदालत ने नए नोटिस जारी किए.

15 दिसंबर को अगली सुनवाई

चीफ जस्टिस राजेश बिंदल और जस्टिस जसप्रीत सिंह की बेंच ने वकील मोतीलाल यादव की ओर से दायर एक जनहित याचिका पर आदेश पारित किया, जिसमें उत्तर प्रदेश में जाति आधारित रैलियों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की गई थी.

बेंच ने अपने आदेश में सुनवाई की अगली तारीख 15 दिसंबर तय करते हुए इस मुद्दे पर जवाब देने के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त को नोटिस भी जारी किया है. इसी जनहित याचिका पर 11 जुलाई 2013 को सुनवाई करते हुए पीठ ने राज्य में जाति आधारित रैलियों के आयोजन पर अंतरिम रोक लगा दी थी.

हालांकि, नौ साल बाद भी न तो चारों पक्षों में से किसी ने और न ही सीईसी के कार्यालय ने उन्हें जारी किए गए हाईकोर्ट के नोटिसों पर अपनी प्रतिक्रिया दी. इस पर चिंता जताते हुए पीठ ने राजनीतिक दलों और मुख्य चुनाव आयुक्त को 15 दिसंबर तक अपना जवाब दाखिल करने के लिए नए नोटिस जारी किए हैं.

2013 में क्या कहा था बेंच ने

अपने 2013 के आदेश में जस्टिस उमा नाथ सिंह और जस्टिस महेंद्र दयाल की बेंच ने कहा था, जाति-आधारित रैलियां आयोजित करने की अप्रतिबंधित स्वतंत्रता, पूरी तरह से नापसंद है और आधुनिक पीढ़ी की समझ से परे है. ऐसा आयोजन कानून के शासन को नकारने और नागरिकों को मौलिक अधिकारों से वंचित करने का कार्य होगा.

बेंच ने तब यह भी कहा था, राजनीतिकरण के माध्यम से जाति व्यवस्था में राजनीतिक आधार की तलाश करने की उनकी कोशिश में, ऐसा लगता है कि राजनीतिक दलों ने सामाजिक ताने-बाने और सामंजस्य को गंभीर रूप से बिगाड़ दिया है. इसके परिणामस्वरूप सामाजिक विखंडन हुआ है. याचिकाकर्ता ने कहा था कि जातीय अल्पसंख्यक, बहुसंख्यक समूहों के वोटों को लुभाने के लिए डिजाइन किए गए राजनीतिक दलों की ऐसी अलोकतांत्रिक गतिविधियों के कारण अपने ही देश में द्वितीय श्रेणी के नागरिकों की श्रेणी में आ गए हैं.

Related posts

Bank fraud: लखनऊ के लोक भवन के सेक्शन अफसर, बैंक अधिकारी समेत पांच और गिरफ्तार

Anjali Tiwari

Deccan Queen Birthday: 92 साल की हुई देश की पहली लग्जरी ट्रेन, कही जाती है ‘क्वीन’

Anjali Tiwari

नोएडा के बाद अब दिल्ली में भी स्कूल बंद, प्राइमरी तक की कक्षाओं पर रोक

Anjali Tiwari

Leave a Comment