जीरो वोट मिलने पर भड़की प्रत्याशी, बोली- मेरा और रिश्तेदारों का वोट कहां गया?

सागर। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के आखिरी चरण में मतदान के बाद हुई मतगणना में कई विवादित व रोचक मामले सामने आ रहे हैं। सबसे ज्यादा चौकाने वाला मामला शाहगढ़ विकासखंड के ग्राम बठवाह निवाही ग्राम पंचायत में देखने को मिली। यहां पर शुक्रवार को मतदान के बाद सरपंच पद के लिए मतगणना का कार्य शुरू हुआ।

मतगणना पूर्ण होने के बाद पीठासीन ने सरपंच प्रत्याशी हल्कीबेन पत्नी राजेश यादव के एजेंट्स से कहा कि उन्हें एक भी वोट नहीं मिला है। इस बात पर एजेंट राजेश ने आपत्ति जाहिर की। राजेश ने आरोप लगाया कि जिस पोलिंग बूथ की गणना में पीठासीन ने हल्कीबेन को जीरो मत मिलना बताया था, उसी बूथ पर प्रत्याशी समेत अन्य परिजनों के वोट भी डाले गए थे। राजेश ने इस बात की शिकायत तत्काल जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय समेत अन्य जगहों पर की जिसके बाद रीकाउंटिंग की गई। रीकाउंटिंग में सरपंच पद प्रत्याशी हल्कीबेन को 66 मत मिले। प्रत्याशी के एजेंट व पति राजेश ने मतदान में गड़बड़ी होने के आरोप लगाए गए हैं।

टाई हुआ सरपंची का मुकाबला

जैसीनगर विकासखंड के तहत आने वाली ग्राम पंचायत सिंगारचौरी में सरपंद पद का मुकाबला मतगणना में बराबर पर खत्म हो गया। यहां पर दो प्रत्याशी को 416-416 मत प्राप्त हुए। बताया जा रहा है कि दोनों प्रत्याशियों के मत एक समान आने के कारण आगे की कार्रवाई अब जैसीनगर विकासखंड से की जाएगी और टॉस या पर्ची के जरिए दोनों प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होगा।

पति, पत्नी के लिए नहीं डाल पाया वोट

भानगढ़ ग्राम पंचायत में सरपंच पद के मतदान के दौरान एक रोचक मामला सामने आया। यहां पर ऊषा पटेल सरपंच पद के लिए चुनावी मैदान में थीं, जिसके कारण पति राजेश पटेल मतदाताओं को वोट डलवाने में लगा रहा।

इस दौरान वह भूल ही गया कि उसे भी मतदान करना है। मतदान के आखिरी क्षणों में वह मतदान केंद्र पहुंचा जहां पर पीठासीन ने यह कहते हुए उसे लौटा दिया कि अब मतदान की समयसीमा समाप्त हो गई है। मतदान की प्रक्रिया पूरी होने के बाद जब मतगणना हुई तो ऊषा को करीब दो वोटों से जीत हासिल हुई।

चार पंचवर्षीय तक पिता को चुना, अब बेटे पर किया विश्वास

बंडा विकासखंड के तहत बरेठी ग्राम पंचायत में लगातार पांच पंचवर्षीय से गांव के मतदाता एक ही परिवार पर विश्वास जता रहे हैं। इस बार बरेठी पंचायत से शेख इमरान ने 216 वोटों से विजय हासिल की है। इसके पूर्व 20 साल तक उनके पिता इस गांव के सरपंच रहे हैं। इस गांव की खासियत यह है कि यहां पर कुल 2016 मतदाता हैं जिसमें मुस्लिम समाज के मतदाता सिर्फ 160 ही हैं।

विजयी उम्मीदवार के भाई से की मारपीट

सागर. सरपंच के लिए हुए मतदान में हार से बौखलाए एक उम्मीदवार के परिजन ने जीत ने वाले व्यक्ति के भाई के साथ मारपीट करते हुए जान से मारने की धमकी दी। विवाद देख लोगों ने बीच- बचाव किया। बरियाघाट निवासी कुलदीप सोनी ग्राम पंचायत हनौता (राजघाट) से सरपंच पद का चुनाव लड़ रहे थे। गत दिवस मतगणना में उन्हें अपने प्रतिद्वंद्वी भोले उर्फ रविकांत यादव से अधिक वोट मिले। चुनाव में पराजय की बौखलाहट के चलते भोले के परिजन गोलू यादव ने चुनाव में सरपंच के लिए बढ़त हासिल करने वाले कुलदीप सोनी के भाई नवदीप सोनी के साथ मतदान केंद्र के बाहर दुर्व्यवहार करते हुए मारपीट की और धमकाया। इस दौरान वहां मौजूद ग्रामीणों ने बीच- बचाव कर विवाद टाला। मारपीट में जख्मी नवदीप ने गोपालगंज थाने पहुंचकर घटना की शिकायत की जिस पर पुलिस ने गोलू यादव के विरुद्ध अपराध दर्ज कर लिया है।

Related posts

फॉर्महाउस में सेक्स रैकेट चलाने वाले मेघालय के BJP नेता UP से गिरफ्तार,

Swati Prakash

गाजियाबाद का नाम बदलने की मांग, महंत नारायण गिरी ने की योगी आदित्यनाथ से मुलाकात

Swati Prakash

पीजी में प्रवेश का झांसा देकर चिकित्सक से 26 लाख की ठगी

Swati Prakash

Leave a Comment