ब्रेकिंग न्यूज़

गाजियाबाद में लगाए गए 500 सीसीटीवी कैमरे, सुरक्षा के हुए कड़े इंतजाम

सावन का पावन महीना गुरुवार से शुरू हो रहा है। सावन के शुरू के दिन ही कांवड़ियों के जत्थे हरिद्वार, ऋषिकेश और गंगोत्री के लिए प्रस्थान करने लगेंगे। इस बार गाजियाबाद जिला प्रशासन भी कांवड़ मेले को लेकर अधिक गंभीर है। जिसके तहत कावड़ यात्रा में सुरक्षा को लेकर तमाम तरह की तैयारी की जा चुकी है। क्योंकि कोरोना के कारण 2 साल बाद शुरू हो रही कांवड़ यात्रा में इस बार कांवड़ियों की संख्या अधिक रहने की उम्मीद है। ऐसे में जिला प्रशासन की तरफ से यात्रा की निगरानी के लिए 500 सीसीटीवी कैमरे और 100 वाट टावर लगाने का निर्णय लिया है। इतना ही नहीं इस बार जिले में चार स्थानों पर कंट्रोल रूम भी बनाए जाएंगे। वॉच टावर पर राउंड दा क्लॉक के तहत पुलिस कर्मियों की 8-8 घंटे की ड्यूटी लगाई जानी निश्चित की गई है। जहां से हर इलाके की पल-पल की खबर ली जा सकेगी।
सीसीटीवी कैमरे और वॉच टावर स्थापित होंगेसावन के महीने में हर साल करीब 2 करोड़ से भी ज्यादा कावड़िए गाजियाबाद से होकर अपने गंतव्य तक जाते हैं। लेकिन 2 साल कोरोना के कारण कावड़ यात्रा रद्द हुई। इसलिए इस साल कावड़ियों की 4 गुना से भी अधिक भीड़ होने का अंदाजा लगाया जा रहा है। सुरक्षा की दृष्टि से गाजियाबाद में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। जिसके तहत जिला मेरठ के परतापुर बॉर्डर से मुरादनगर और मुरादनगर से पाइपलाइन मार्ग, मुरादनगर से मेरठ तिराहा, मेरठ तिराहा से यूपी गेट, मेरठ तिराहा से महाराजपुर बॉर्डर और मेरठ तिराहा से सीमापुरी बॉर्डर, मेरठ चौराहा से भोपुरा बॉर्डर यानी इन 7 मार्गों पर सीसीटीवी कैमरे और वॉच टावर स्थापित किए जाएंगे। साथ ही जिले में 4 कंट्रोल रूम गंगनहर, मेरठ तिराहा, टीला मोड़ वे कलेक्ट्रेट में बनाए जा रहे हैं। इनमें पुलिस के साथ सभी विभागों के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे और 24 घंटे काम करने वाले पुलिस कर्मी इन कंट्रोल रूम के माध्यम से ही सीसीटीवी कैमरे की भी निगरानी रखेंगे।

रूट को कुल 19 सेक्टरों में बांटा जाएगाइस बार एसपी देहात डॉक्टर ईरज राजा को कांवड़ यात्रा का नोडल अधिकारी चुना गया है। उन्होंने बताया कि कांवड़ यात्रा के दौरान जिले को 4 सुपर जॉन में बांटा जाएगा। जिसके तहत हर जोन में एक एसपी और एक एडीएम स्तर के अधिकारी तैनात रहेंगे। इसके अलावा 9 अन्य जोन बनाए जाएंगे। प्रत्येक जोन में एक एसडीएम और एक सीओ की तैनाती रहेगी। उन्होंने बताया कि अन्य रूट पर सुरक्षा की दृष्टि से पूरे रूट को कुल 19 सेक्टरों में बांटा जाएगा। जिसके तहत हर सेक्टर में एक इंस्पेक्टर व एक अन्य अधिकारी मौजूद रहेगा ।

ड्रोन कैमरे के माध्यम से यात्रा पर निगरानीनोडल अधिकारी ने बताया कि कावड़ यात्रा वाले रूट पर 25 ड्रोन कैमरे के माध्यम से यात्रा पर निगरानी की जा सकेगी। कावड़ यात्रा के रूट में आने वाले हर थाना क्षेत्र में दो से तीन ड्रोन कैमरे 24 घंटे निगरानी करेंगे। उन्होंने बताया कि कांवड़ यात्रा की सुरक्षा को लेकर पूरा प्लान तैयार हो चुका है। यात्रा सुरक्षित व शांतिपूर्ण माहौल में संपन्न कराई जाएगी।

Related posts

अब फास्ट टैग नहीं, जीपीएस से होगी टोल वसूली

Swati Prakash

जयपुर का एक कुआ, जहां से पानी की जगह निकला इतना कपडा

Swati Prakash

रद्द करे सीबीएसई, सीआईएससीई की 10वीं, 12वीं टर्म 2 परीक्षा, कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच छात्रों की मांग

Anjali Tiwari

Leave a Comment