ब्रेकिंग न्यूज़

जहांगीरपुरी में भीड़ ने जांच टीम पर की पत्थरबाजी खबर की पुरी जानकारी..

जहांगीरपुरी में हुई हिंसा के बाद पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी कर ​दी है। वह सीसीटीवी फुटेज, लगातार गश्त के साथ ही अब संवेदनशील इलाकों में ड्रोन से नजर रख रही है।

नई दिल्ली। जहांगीरपुरी में हुई हिंसा के बाद पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी कर ​दी है। वह सीसीटीवी फुटेज, लगातार गश्त के साथ ही अब संवेदनशील इलाकों में ड्रोन से नजर रख रही है। शोभायात्रा के बाद हुई झड़क के एक दिन बाद पुलिस ने अमन समितियों के साथ भी बैठक की। शहर में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए दिल्ली पुलिस ने रविवार को ड्रोन और पैदल गश्त बढ़ा दी। इसी बीच फॉरेंसिक टीम जांच के लिए जहांगीरपुरी पहुंची। वहीं दोनों मुख्य आरोपियों अंसार और असलम की आज दोपहर बाद कोर्ट में पेशी होगी। पुलिस दोनों की कस्टडी और बढ़ाने की मांग करेगी। इसी बीच जहांगीरपुरी हिंसा पर राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है।

 

 

इन इलाकों में बढ़ाई पैदल गश्त, 2020 के दंगे भी इन्हीं जगहों पर हुए थे

जामिया नगर, जामा मस्जिद, संगम विहार, चांदनी महल, जसोला, हौज कासी सहित तमाम जगहों पर ड्रोन और पैदल गश्त की जा रही है। साथ ही उत्तरी-पूर्वी दिल्ली मेंं भी गश्त बढ़ा दी गई है जहां 2020 में साम्प्रदायिक दंगे हुए थे। जहांगीरपुरी इलाके में हनुमान जयंती के दिन जुलूस के दौरान हुई हिंसा में नौ पुलिसकर्मियों सहित कई लोगों के घायल होने के बाद यह कदम उठाए गए हैं। हनुमान जयंती के अवसर पर निकाली गई एक शोभायात्रा के दौरान हुई झड़प के एक दिन बाद दिल्ली पुलिस ने रविवार को अमन समितियों के सदस्यों के साथ बैठक की। इस दौरान पुलिस ने उनसे कहा कि वे अपने-अपने इलाकों में शांति बनाए रखने की लोगों से अपील करें।अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

पार्षद का दावा:अवैध बांग्लादेशी निवासी हैं समस्या की वजह

आदर्श नगर की भाजपा पार्षद गरिमा गुप्ता ने दावा किया कि उन्होंने बैठक के दौरान इलाके में गैर कानूनी तरीके से रह रहे बांग्लादेशियों का मुद्दा उठाया था, लेकिन उन्हें इसकी अनुमति नहीं दी गई। उन्होंने दावा किया कि, ‘बैठक में मैंने कहा कि यह समस्या इलाके में गैर कानूनी तरीके से रह रहे बांग्लादेशियों की वजह से है और वे हथियार भी रखते हैं। लेकिन बैठक में मौजूद पुलिस अधिकारी ने दावा किया कि मैं मुद्दे को भटका रही हूं।’ गुप्ता ने कहा कि इस तरह की बैठक का क्या उद्देश्य है जब ‘‘वास्तविक’’मुद्दों को ही नहीं उठाया जा सके।

पुलिस ने बताया कि दो समुदायों के बीच हुई झड़प के दौरान पथराव और आगज़नी की गई थी, जिसमें आठ पुलिस कर्मी और एक स्थानीय व्यक्ति घायल हो गया था। कुछ गाड़ियों को भी आग लगा दी गई थी।  उत्तर-पश्चिम दिल्ली की पुलिस उपायुक्त (डीसीसी) ऊषा रंगनानी ने जहांगीरपुरी, महेंद्र पार्क और आदर्श नगर की अमन समितियों के सदस्यों की एक बैठक बुलाई थी ताकि इलाके में शांति बनी रहे। रंगनानी ने कहा कि बैठक के दौरान सभी सदस्यों से कहा गया कि वे अपने इलाकों में शांति, अमन और सद्भाव बनाए रखने के लिए जनता से अपील करें। जहांगीरपुरी इलाके में स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। इलाके में पर्याप्त पुलिस बल तैनात किया गया है।

Related posts

प्यार की खातिर मुस्कान खातून बनी मुस्कान कुमारी, मंदिर में रचाई शादी; मचा बवाल

Anjali Tiwari

उठक-बैठक’ की राजनीति से खुद की ब्रांडिंग कर गए तेलंगाना सीएम

Anjali Tiwari

अगले पांच साल तक नहीं खेली जाएगी भारत पाकिस्तान सीरीज, क्रिकेट फैन्स को बड़ा झटका

Swati Prakash

Leave a Comment