ब्रेकिंग न्यूज़

कोरोना के बाद इस खतरनाक वायरस ने मारी एंट्री , जारी हुआ एलर्ट

कोरोना महामारी ने तो पूरी दुनिया का हाल बेहाल कर दिया है , आम जन डर डर कर जीने में मजबूर हो गया है … कोरोना की चपेट से कोई भी देश बच नहीं पाया , कोरोना महामारी का विकराल रूप बहुत ही भयावह था … कोरोना की तबाही से हालात थोड़े काबू में हुए हि थे कि अब इस खतरनाक वायरस ने हलचल मचा दी है , कोरोना वायरस के बाद दुनियाभर में अब मंकीपॉक्स का खतरा मडरा रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि मंकीपॉक्स वायरस 21 से अधिक देशों में फैल गया है, अब तक इसके 200 से ज्यादा मामलों की पुष्टि हो चुकी है. अब इसे लेकर भारत में भी इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने चेतावनी जारी की है….

मानव चेचक के समान एक दुर्लभ वायरल संक्रमण है. यह पहली बार 1958 में शोध के लिए रखे गए बंदरों में पाया गया था. मंकीपॉक्स से संक्रमण का पहला मामला 1970 में दर्ज किया गया था. यह रोग मुख्य रूप से मध्य और पश्चिम अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय वर्षावन क्षेत्रों में होता है और कभी-कभी अन्य क्षेत्रों में पहुंच जाता है.

हैदराबाद के यशोदा अस्पताल में संक्रामक रोगों पर सलाहकार डॉ. मोनालिसा साहू ने कहा, ‘मंकीपॉक्स एक दुर्लभ जूनोटिक बीमारी है जो मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण के कारण होती है. मंकीपॉक्स वायरस पॉक्सविरिडे परिवार से संबंधित है, जिसमें चेचक और चेचक की बीमारी पैदा करने वाले वायरस भी शामिल हैं. ”

फ्रीका के बाहर, अमेरिका, यूरोप, सिंगापुर, ब्रिटेन में मंकीपॉक्स के मामले सामने आए हैं और इन मामलों को अंतरराष्ट्रीय यात्रा व बीमारी से ग्रस्त बंदरों के एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने से जोड़ा गया है.’

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, मंकीपॉक्स आमतौर पर बुखार, दाने और गांठ के जरिये उभरता है

 मृत्यु दर का अनुपात लगभग 3-6 प्रतिशत रहा है, लेकिन यह 10 प्रतिशत तक हो सकता है. संक्रमण के वर्तमान प्रसार के दौरान मौत का कोई मामला सामने नहीं आया है.

 

ऐसा माना जाता है कि यह चूहों, चूहियों और गिलहरियों जैसे जानवरों से फैलता है. यह रोग घावों, शरीर के तरल पदार्थ, श्वसन बूंदों और दूषित सामग्री जैसे बिस्तर के माध्यम से फैलता है. 

स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि इनमें से कुछ संक्रमण यौन संपर्क के माध्यम से संचरित हो सकते हैं. डब्ल्यूएचओ ने कहा कि वह समलैंगिक या उभयलिंगी लोगों से संबंधित कई मामलों की भी जांच कर रहा है.

Related posts

चेहरे के लिए ही नहीं, इन बीमारियों में भी फायदेमंद है मुल्तानी मिट्टी,

Swati Prakash

30 की उम्र के बाद इस तरह रखें अपनी त्वचा का ख्याल, चहेरा दिखेगा जवां

Swati Prakash

फिट रहने के लिए जरूरी हैं मिनरल्स,

Swati Prakash

Leave a Comment